Hindi Shayari For Love

Falsafa Samjho Na Asraar-e-Siyasat Samjho,
Zindagi Sirf Hakiqat Hai Hakiqat Samjho,
Jaane Kis Din Hon Hawayein Bhi Neelam Yahan,
Aaj To Saans Bhi Lete Ho Ghaneemat Samjho.
फलसफा समझो न असरारे सियासत समझो,
जिन्दगी सिर्फ हकीक़त है हकीक़त समझो,
जाने किस दिन हो हवायें भी नीलाम यहाँ,
आज तो साँस भी लेते हो ग़नीमत समझो।

Samjhne Hi Nahi Deti Siyasat Hum Ko Sachchai,
Kabhi Chehra Nahi Milta Kabhi Darpan Nahi Milta.
समझने ही नहीं देती सियासत हम को सच्चाई,
कभी चेहरा नहीं मिलता कभी दर्पन नहीं मिलता।

Jo Teer Bhi Aata Woh Khaali Nahi Jata,
Mayoos Mere Dil Se Sawali Nahi Jata,
Kaante Hi Kiya Karte Hain Phoolo Ki Hifazat,
Phoolo Ko Bachane Koi Maali Nahi Aata.
जो तीर भी आता वो खाली नहीं जाता,
मायूस मेरे दिल से सवाली नहीं जाता,
काँटे ही किया करते हैं फूलों की हिफाज़त,
फूलों को बचाने कोई माली नहीं जाता।


Hindi Shayari For Love

Ab Na Main Hun, Na Baaki Hai Zamane Mere,
Fir Bhi MashHoor Hain Shaharon Mein Fasane Mere,
Zindagi Hai Toh Naye Zakhm Bhi Lag Jayenge,
Ab Bhi Baaki Hain Kayi Dost Puraane Mere.
अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​,
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​,
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।

Kahin Behtar Hai Teri Ameeri Se Muflisi Meri,
Chand Sikkon Ki Khaatir Tune Kya Nahi Khoya Hai,
Mana Nahi Hai Makhmal Ka Bichhauna Mere Paas,
Par Tu Yeh Bataa Kitni Raatein Chain Se Soya Hai.
कहीं बेहतर है तेरी अमीरी से मुफलिसी मेरी,
चंद सिक्कों की खातिर तूने क्या नहीं खोया है,
माना नहीं है मखमल का बिछौना मेरे पास,
पर तू ये बता कितनी रातें चैन से सोया है।

Humara Zikr Bhi Ab Jurm Ho Gaya Hai Wahan,
Dino Ki Baat Hai Mefil Ki Aabru Hum The,
Khayal Tha Ke Yeh Pathrav Rok Dein Chal Kar,
Jo Hosh Aaya Toh Dekha Lahu Lahu Hum The.
हमारा ज़िक्र भी अब जुर्म हो गया है वहाँ,
दिनों की बात है महफ़िल की आबरू हम थे,
ख़याल था कि ये पथराव रोक दें चल कर,
जो होश आया तो देखा लहू लहू हम थे।

Jaruri Toh Nahi Jeene Ke Liye Sahara Ho,
Jaruri Toh Nahi Hum Jinke Hain Woh Humara Ho,
Kuchh Kashtiya Doob Bhi Jaya Karti Hai,
Jaruri Toh Nahi Har Kashti Ka Kinara Ho.
जरुरी तो नहीं जीने के लिए सहारा हो,
जरुरी तो नहीं हम जिनके हैं वो हमारा हो,
कुछ कश्तियाँ डूब भी जाया करती हैं,
जरुरी तो नहीं हर कश्ती का किनारा हो।

Hindi Shayari For Love


Khamoshi Se Bikharna Aa Gaya Hai,
Humein Ab Khud Ujadna Aa Gaya Hai,
Kisi Ko Bewafa Kehte Nahi Hum,
Humein Bhi Ab Badlna Aa Gaya Hai,
Kisi Ki Yaad Mein Rote Nahi Hum,
Humein Chup Chap Jalna Aa Gaya Hai,
Gulaabon Ko Tum Apne Pass Hi Rakho,
Humein Kaanton Pe Chalna Aa Gaya Hai.

खामोशी से बिखरना आ गया है,
हमें अब खुद उजड़ना आ गया है,
किसी को बेवफा कहते नहीं हम,
हमें भी अब बदलना आ गया है,
किसी की याद में रोते नहीं हम,
हमें चुपचाप जलना आ गया है,
गुलाबों को तुम अपने पास ही रखो,
हमें कांटों पे चलना आ गया है।

Waqt Noor Ko Benoor Kar Deta Hai,
Chhote se Zakhm Ko Nasoor Kar Deta Hai,
Kaun Chahta Hai Apno Se Dur Rehna,
Par Waqt Sabko Majboor Kar Deta Hai.
वक़्त नूर को बेनूर कर देता है,
छोटे से जख्म को नासूर कर देता है,
कौन चाहता है अपनों से दूर रहना,
पर वक़्त सबको मजबूर कर देता है।

Na Jee Bhar Ke Dekha Na Kuchh Baat Ki,
Badi Aarzoo Thi Mulaqat Ki,
न जी भर के देखा न कुछ बात की,
बड़ी आरज़ू थी मुलाक़ात की।

Kayi Saal Se Kuchh Khabar Hii Nahi,
Kahaan Din Gujara Kahaan Raat Ki,
कई साल से कुछ ख़बर ही नहीं,
कहाँ दिन गुज़ारा कहाँ रात की।

Ujalon Ki Pariya Nahane Lagi,
Nadi Gungunayi Khyalat Ki,
उजालों की परियाँ नहाने लगीं,

Ek Chehra Jo Mere Khwaab Sajaa Deta Hai,
Mujh Ko Mere Hi Khayaalon Mein Sadaa Deta Hai,
एक चेहरा जो मेरे ख्वाब सजा देता है,
मुझ को मेरे ही ख्यालों में सदा देता है।


Hindi Shayari For india

Wo Mera Kaun Hai Maloom Nahi Hai Lekin,
Jub Bhi Milta Hai To Pehlu Mein Jagaha Deta Hai,
वो मेरा कौन है मालूम नहीं है लेकिन,
जब भी मिलता है तो पहलू में जगा देता है।

Main Khil Nahi Saka Ki Mujhe Nam Nahi Mila,
Saqi Mere Mizaaj Ka Mausam Nahi Mila.
मैं खिल नहीं सका कि मुझे नम नहीं मिला,
साक़ी मिरे मिज़ाज का मौसम नहीं मिला।

Mujh Mein Basi Huyi Thi Kisi Aur Ki Mehak,
Dil Bujh Gaya Ki Raat Woh Barhum Nahi Mila.
मुझ में बसी हुई थी किसी और की महक,
दिल बुझ गया कि रात वो बरहम नहीं मिला।

Nazar Mein Zakham-e-Tabassum Chhupa Chhupa Ke Mila,
Khafa Toh Tha Woh Magar Mujh Se Muskura Ke Mila,
नज़र में ज़ख़्म-ए-तबस्सुम छुपा छुपा के मिला,
खफा तो था वो मगर मुझ से मुस्कुरा के मिला।

Wo Hamsafar Ke Mere Tanz Pe Hansa Tha Bohat,
Sitam Zareef Mujhe Aaina Dikha Ke Mila,
वो हमसफ़र कि मेरे तंज़ पे हंसा था बहुत,
सितम ज़रीफ़ मुझे आइना दिखा के मिला।

Jin Ke Aangan Mein Ameeri Ka Shajar Lagta Hai,
Unka Har Aib Bhi Jamane Ko Hunar Lagta Hai.
जिन के आंगन में अमीरी का शजर लगता है,
उन का हर एब भी जमानें को हुनर लगता है।


i Hindi Shayari

Sari Galti Hum Apni Kismat Ki Kaise Nikal Dein
Kuchh Sath Humara Teri Ameeri Ne Bhi Toda Hai.
सारी गलती हम अपनी किस्मत की कैसे निकल दें,
कुछ साथ हमारा तेरी अमीरी ने भी तोडा है।

Dil Ki Dahleej Par Yaadon Ke Deeye Rakhe Hain,
Aaj Tak Hum Ne Yeh Darwaaje Khule Rakhe Hain,
दिल की दहलीज पर यादों के दिए रखें हैं,
आज तक हम ने ये दरवाजे खुले रखे हैं।

Iss Kahani Ke Woh Kirdar Kahan Se Laaun,
Wohi Dariya Hai Wohi Kachche Ghade Rakhe Hain,
इस कहानी के वो किरदार कहाँ से लाऊं,
वो ही दरिया है वो ही कच्चे घड़े रखे हैं।

Din Ki Roshni Khwabon Ko Banane Mein Gujar Gayi,
Raat Ki Neend Bachche Ko Sulane Mein Gujar Gayi,
Jis Ghar Mein Mere Naam Ki Takhti Bhi Nahi Hai,
Saari Umar Uss Ghar Ko Banane Mein Gujar Gayi.

दिन की रोशनी ख्वाबों को सजाने में गुजर गई,
रात की नींद बच्चे को सुलाने मे गुजर गई,
जिस घर मे मेरे नाम की तखती भी नहीं,
सारी उमर उस घर को बनाने में गुजर गई।

Phool Isliye Achhe Hain Ki Khushbu Ka Paigam Dete Hain,
Kaante Islite Achhe Hai Ki Daaman Thaam Lete Hain,
Dost Isliye Achhe Hain Ki Woh Mujh Par Jaan Dete Hain,
Aur Dushmano Ko Main Kaise Kharab Keh Doon…
Woh Hi Toh Hain Ho Mehfil Mein Mera Naam Lete Hain.
फूल इसलिये अच्छे कि खुश्बू का पैगाम देते हैं,
कांटे इसलिये अच्छे कि दामन थाम लेते हैं,
दोस्त इसलिये अच्छे कि वो मुझ पर जान देते हैं,
और दुश्मनों को मैं कैसे खराब कह दूं…
वो ही तो हैं जो महफिल में मेरा नाम लेते हैं।


Hindi Shayari on Love

Sare Bajaar Niklun Toh Aawargi Ki Tohmat,
Tanhaayi Mein Baithhu Toh Ilzam-E-Mohabbat.
सरे बाज़ार निकलूं तो आवारगी की तोहमत,
तन्हाई में बैठूं तो इल्जाम-ए-मोहब्बत।

Na Shakhon Ne Di Panah, Na Hawaon Ne Bakhsha,
Woh Patta Aawara Na Banta Toh Aur Kya Karta.
ना शाखों ने पनाह दी,ना हवाओ ने बक्शा,
वो पत्ता आवारा ना बनता तो क्या करता।

Ajeeb Mithaas Hai Mujh Gareeb Ke Khoon Me Bhi,
Jise Bhi Mauka Milta Hai Woh Peeta Zaroor Hai.
अजीब मिठास है मुझ गरीब के खून में भी,
जिसे भी मौका मिलता है वो पीता जरुर है।

Sula Diya Maa Ne Bhukhe Bachche Ko Ye Keh Kar,
Pariyan Aayengi Sapno Mein Rotiyan Lekar.
सुला दिया माँ ने भूखे बच्चे को ये कहकर,
परियां आएंगी सपनों में रोटियां लेकर।

Kuchh Dard Kuchh Nami Kuchh Batein Judayi Ki,
Gujar Gaya Khayalon Se Teri Yaad Ka Mausam.
कुछ दर्द कुछ नमी कुछ बातें जुदाई की,
गुजर गया ख्यालों से तेरी याद का मौसम।

Kabhi Tuta Nahi Dil Se Teri Yaad Ka Rishta,
Guftgu Ho Na Ho Khayal Tera Hi Rehta Hai.
कभी टूटा नहीं दिल से तेरी याद का रिश्ता,
गुफ्तगू हो न हो ख्याल तेरा ही रहता है।

Teri Chahato Mein Ruswa Sare Bajar Ho Gaye,
Humne Hi Dil Khoya Hum Hi Gunahgar Ho Gaye.
तेरी चाहत में रुसवा यूँ सरे बाज़ार हो गये,
हमने ही दिल खोया और हम ही गुनहगार हो गये।

Jamaane Bhar Ki Ruswayian Aur Bechain Raatein,
Aye Dil Kuchh To Bata Ye Mazraa Kya Hai?
जमाने भर की रुसवाईयाँ और बेचैन रातें,
ऐ दिल कुछ तो बता ये माजरा क्या है।

Wohi Rakhega Mere Ghar Ko Balaaon Se Mehfooz,
Jo Shajar Se Ghosla Girne Nahin Deta.
वही रखेगा मेरे घर को बलाओं से महफूज,
जो शजर से घोसला गिरने नहीं देता।


Hindi shayari love

Hawa Khilaaf Thi Lekin Chirag Bhi Khoob Jala,
Khuda Bhi Apne Hone Ka Kya Kya Saboot Deta Hai.
हवा खिलाफ थी लेकिन चिराग भी खूब जला,
खुदा भी अपने होने का क्या क्या सबूत देता है।

Ab Maayoos Kyun Ho Uss Ki Bewafai Pe Faraz,
Tum Khud Hi To Kehte The Ki Wo Sabse Juda Hai.
अब मायूस क्यूँ हो उस की बेवफाई पे फ़राज़,
तुम खुद ही तो कहते थे कि वो सबसे जुदा है।

In Baarishon Se Dosti Acchi Nahi Faraz,
Kaccha Tera Maqaan Hai Kuch To Khayal Kar.
इन बारिशों से दोस्ती अच्छी नहीं फराज,
कच्चा तेरा मकाँ है कुछ तो ख्याल कर।

Kya Gila Karein Teri Majboorion Ka Hum,
Tu Bhi Insaan Hai Koyi Khuda To Nahin,
Mera Waqt Jo Hota Mere Minasib,
Majbooriyon Ko Bech Kar Tera Dil Khareed Leta.
क्या गिला करें तेरी मजबूरियों का हम,
तू भी इंसान है कोई खुदा तो नहीं,
मेरा वक़्त जो होता मेरे मुनासिब,
मजबूरिओं को बेच कर तेरा दिल खरीद लेता।

Kya Bayaan Karein Teri Masoomiyat Ko Shayari Mein Hum,
Tu Lakh Gunaah Kar Le Saja Tujhko Nahi Milni.
क्या बयान करें तेरी मासूमियत को शायरी में हम,
तू लाख गुनाह कर ले सजा तुझको नहीं मिलनी।

Dam Tod Deti Hai Har Shikayat, Labo Pe Aakar,
Jab Masoomiyat Se Woh Kehti Hai, Maine Kiya Kya Hai?
दम तोड़ जाती है हर शिकायत, लबों पे आकर,
जब मासूमियत से वो कहती है, मैंने क्या किया है?

Mujh Mein Khushboo Basi Usi Ki Hai,
Jaise Ye Zindgi Usi Ki Hai.
मुझ में ख़ुशबू बसी उसी की है,
जैसे ये ज़िंदगी उसी की है।

Wo Kahin Aas Paas Hai Mauzood,
Hu-Ba-Hu Yeh Hasee Usi Ki Hai.
वो कहीं आस-पास है मौजूद,
हू-ब-हू ये हँसी उसी की है।


Hindi Shayari about love

Yeh Mat Puchh Ke Ehsaas Ki Shiddat Kya Thi,
Dhoop Aisi Thi Ki Saaye Ko Bhi Jalte Dekha.
ये मत पूछ के एहसास की शिद्दत क्या थी,
धूप ऐसी थी के साए को भी जलते देखा।

Itni Chaahat Ke Baad Bhi Tujhe Ehsaas Na Hua,
Jara Dekh Toh Le Dil Ki Jagah Patthar Toh Nahi.
इतनी चाहत के बाद भी तुझे एहसास ना हुआ,
जरा देख तो ले दिल की जगह पत्थर तो नहीं।

Apne Hontho Pe Sajana Chahata Hu,
Aa Tujhe Main Gungunana Chahata Hu,
अपने होंठों पर सजाना चाहता हूँ,
आ तुझे मैं गुन गुनाना चाहता हूँ।

Koyi Aanshu Tere Daman Par Gira Kar,
Boond Ko Moti Banana Chahata Hu,
कोई आँसू तेरे दामन पर गिरा कर,
बूँद को मोती बनाना चाहता हूँ।

Kitne Parwaane Jale Raaz Yeh Paane Ke Liye,
Shama Jalne Ke Liye Hai Ya Jalaane Ke Liye.
कितने परवाने जले राज़ ये पाने के लिए,
शमां जलने के लिए हैं या जलाने के लिए।

Kisi Ko Pyar Ka Matlab Bas Itna Sa Samjhana,
Shama Ke Paas Jakar Ke Parwane Ka Jal Jana.
किसी को प्यार का मतलब बस इतना सा समझाना,
शमा के पास जाकर के परवाने का जल जाना।